स्वतंत्र आवाज़
word map

बीएसएफ व पाक रेंजर्स डीजी की बैठक हुई

अगली बैठक पाकिस्तान में करने पर बनी सहमति

हर साल दो बार होती है बीएसएफ-पाक रेंजर्स वार्ता

स्वतंत्र आवाज़ डॉट कॉम

Friday 10 November 2017 02:50:34 PM

meeting of bsf and pak rangers dg at new delhi

नई दिल्ली। भारतीय सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) और पाकिस्‍तान रेंजर्स के महानिदेशक के बीच साल में दो बार होने वाली तीन दिवसीय वार्ता आज यहां बड़े सकारात्मक वातावरण में सम्पन्न हुई। बैठक में 23 सदस्‍यीय भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्‍व बीएसएफ के महानिदेशक केके शर्मा ने किया, जबकि 19 सदस्‍यों के पाकिस्‍तानी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्‍व पाकिस्‍तान रेंजर्स सिंध के महानिदेशक मेजर जनरल मुहम्‍मद सईद ने किया। दोनों ओर के प्रतिनिधिमंडल में संबंधित गृह और विदेश मंत्रालय के प्रतिनिधियों सहित मादक पदार्थ नियंत्रण और सर्वेक्षण विभाग के अधिकारी भी शामिल थे।
बीएसएफ और पाक रेंजर्स के महानिदेशक स्तर की इस वार्ता में दोनों पक्षों में भारत-पाकिस्तान सीमा पर शांति और स्थिरता कायम करने के लिए लगातार प्रयास करते रहने पर सहमति के साथ वार्ता हुई। सौहार्दपूर्ण वातावरण के फलस्वरूप इस विषय पर भी दोनों में सहर्ष सहमति बनी कि अगले दौर की वार्ता पाकिस्‍तान में आयोजित की जाएगी। गौरतलब है कि मई 1989 में इस्‍लामाबाद पाकिस्‍तान में हुई गृह सचिव स्‍तर की वार्ता में यह निर्णय लिया गया था कि भारतीय सीमा सुरक्षा बल और पाकिस्‍तान रेंजर्स के अधिकारी वर्ष में दो बार वार्ता कर दोनों सीमा सुरक्षा बलों के बीच स्‍वीकृत सहयोग के मानदंडों के अनुपालन की समीक्षा करेंगे, यह बैठक इसी पर आधारित थी, जिसमें एक दूसरे के प्रति सहयोग और विश्वास पर ज़ोर था।
भारतीय पक्ष ने अकारण सीमा पार गोलीबारी, मादक पदा‍र्थों की तस्‍करी, घुसपैठ की कोशिश, सुरंग तथा रक्षा निर्माण की गतिविधियों सहित कई मुद्दों को पाकिस्तान के सामने मजबूती के साथ उठाया। दोनों देशों की सीमा पर रहने वाली आबादी के असावधानी से सीमा पार करने के मुद्दे तथा उनकी वापसी के तरीकों पर भी चर्चा की गई। बैठक में इस बात पर सहमति बनी कि दोनों देशों के नागरिकों के साथ व्‍यवहार करते समय सबसे अधिक सावधानी बरतनी चाहिए। बैठक में समय पर सूचना साझा करने, फील्‍ड कमांडर स्‍तर की बैठकों की संख्‍या बढ़ाने तथा समन्वित निगरानी इत्‍यादि की आवश्‍यकता पर भी चर्चा हुई और सीमा शुचिता कायम रखने में सहयोग की आवश्‍यकता पर भी बल दिया गया। 

हिन्दी या अंग्रेजी [भाषा बदलने के लिए प्रेस F12]