स्वतंत्र आवाज़
word map

भाजपा सरकार बबूल का पेड़-अखिलेश यादव

खुझौली गांव में कुश्ती दंगल के नाम पर राजनीतिक दंगल

'भाजपा ने नदियों में और भी ज्यादा गंदगी फैला दी है'

स्वतंत्र आवाज़ डॉट कॉम

Monday 2 October 2017 01:07:08 AM

akhilesh yadav

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए वोट मांगने के अंदाज़ में भाजपा और केंद्र सरकार पर हल्ला बोलते हुए प्रदेशवासियों को आगाह किया है कि भाजपा लोकसभा चुनाव से पहले फिर कोई अफीम लेकर आ सकती है, जिससे जनता गुमराह होकर उसे वोट कर दे। उन्होंने आरोप लगाया है कि केंद्र की सरकार ने जनता के हित में कोई भी काम नहीं किया है। अखिलेश यादव ने यहां आरक्षण का अकारण ही जिक्र किया और कहा कि जातीय अनुपात में आरक्षण होना चाहिए, जिससे समाज में सभी के साथ न्याय हो सके। अखिलेश यादव लखनऊ के मोहनलालगंज के खुझौली गांव में कुश्ती दंगल के उद्घाटन के पश्चात जनसभा को संबोधित कर रहे थे। दरअसल यह आयोजन कुश्ती दंगल तो कम लगा, बल्कि इसके नाम पर भीड़ इकठ्ठी करके उन्हें भाजपा, योगी सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलना था। सपा इसी प्रकार के कार्यक्रम कराकर कार्यकर्ताओं को व्यस्त रखने में लगी है। समाजवादी पार्टी ने लखनऊ से लेकर मोहनलालगंज के खुझौली गांव कार्यक्रम स्‍थल तक पूरे रास्ते में अखिलेश यादव के भव्य स्वागत का प्रपेगंडा किया था।
अखिलेश यादव का अधिकांश भाषण केंद्र सरकार की नीतियों और भारतीय जनता पार्टी पर ही था। उन्होंने उत्तर प्रदेश में भाजपा सरकार के कामकाज पर तीखी टिप्पणियां कीं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार विकास विरोधी सरकार है, जबकि समाजवादी सरकार ने कैंसर अस्पताल बनवाया, लैपटाप बांटे, कन्याविद्याधन दिया, अमूल प्लांट लगवाया। उन्होंने सवाल किया कि भाजपा अपने काम का परिचय तो दे, छह माह से यह सरकार सिर्फ समाजवादी सरकार के विकास की जांच ही कर रही है, बेहतर होगा कि वह अपनी भी जांच करे, जब डबल इंजन की सरकार है तो कोई काम क्यों नहीं करती है? अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा राज में गोरखपुर में हजारों बच्चों की जापानी बुखार से मौतें हुईं, एक मंत्री ने शर्मनाक बयान दिया कि अगस्त में ऐसी मौतें होती रही हैं। उन्होंने कहा कि समाजवादी सरकार ने गरीबों को लोहिया आवास दिए थे, महिलाओं की सुरक्षा के लिए 1090 पावर लाइन थी, 55 लाख को समाजवादी पेंशन दी थी, दिल्ली की सरकार ने क्या किया? सपा सरकार ने यूपी 100 डायल पुलिस की व्यवस्था की थी, इससे कानून व्यवस्था में सुधार हुआ था, अब भाजपा के मुख्यमंत्री उसमें भ्रष्टाचार की बात करते हैं तो यह किसकी जिम्मेदारी है? सरकार तो उन्हीं की है।
अखिलेश यादव ने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी से देश की अर्थव्यवस्था तबाह हुई है, नोट काला सफेद नहीं होता है, लेनेदेन काला सफेद होता है, सरकार बताए कि कितना कालाधन सामने आया है? उन्होंने कहा कि देश के बड़े 100 कर्जदारों में लगभग 50 उत्तर प्रदेश के हैं, नोटबंदी का पैसा भी इनके पास ही गया है, इन कर्जदारों की सूची भाजपा जाहिर करे। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी तरक्की और खुशहाली की तरफदार है, भाजपा से धोखा न मिले, इसके लिए सभी को समझदार और सावधान रहना होगा। उन्होंने फिर सवाल उछाला कि भाजपा ने भोली भाली जनता को आखिर धोखा क्यों दिया? अखिलेश यादव ने कहा कि किसानों और गांवों के लिए उत्तर प्रदेश में सबसे ज्यादा काम समाजवादी सरकार ने किया है, बिना बड़े काम किए राज्य का विकास नहीं हो सकता है। उन्होंने दोहराया कि आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे जैसी सड़क समाजवादियों ने ही बनाई हैं, किसानों को चार गुना मुआवजा दिया गया है, किसानों को अपनी फसल के विक्रय में सुविधा मिले इसके लिए मंडियों की स्थापना की हैं, बीमारों और प्रसूताओं के लिए 108 और 102 नंबर एम्बुलेंस सेवा शुरू की गई।
अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा अच्छे दिनों का वादा कर चुनाव जीती थी पर ये अच्छे दिन कहां आए हैं? भाजपा किसानों के कर्जमाफी का झूठा प्रचार कर रही है, तीन साल हो गए हैं प्रधानमंत्री ने एक भी चुनावी वादा पूरा नहीं किया है। गंगा नदी कहां साफ हुई है? काली नदी कब साफ होगी? समाजवादी सरकार ने नदी सफाई का काफी काम किया था, मगर सफाई के बदले भाजपा ने नदियों में और गंदगी फैला दी है। उन्होंने कहा बबूल के पेड़ से आम की उम्मीद नहीं की जा सकती है, वैसे भी दिल्ली में रामलीला मैदान से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का तीर अपने लक्ष्य पर नहीं पहुंच सका, यह संकेत काफी है। अखिलेश यादव ने संक्षेप में कुश्ती दंगल का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि गांवों में दंगलों की पुरानी परम्परा है, यह ग्रामीण संस्कृति है, महाभारत-रामायण में भी इनका जिक्र है, जैसे-भीम और हनुमान मल्ल विद्या में पारंगत थे। उन्होंने कहा कि पहलवानी में जोर आजमाइश होती है, इसके लिए काफी परिश्रम करना होता है। उन्होंने कहा कि समाजवादी सरकार ने पहलवानों का भी सम्मान किया है, पहलवानों ने देश का सम्मान बढ़ाया है।
अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी सरकार ने बिना धर्म जाति के भेदभाव के जहां फिल्म, फौज, क्रिकेट क्षेत्र के लोगों को सम्मान दिया, वहीं अलका तोमर और अंशु तोमर महिला पहलवानों के अतिरिक्त बच्चनलाल, भगत सिंह, विजयपाल, राजकुमार, गार्गी यादव, राम मिलन, पन्नेलाल, रामआसरे, कालीरमन, मेवालाल, नरसिंह तथा जनार्दन सिंह जैसे पहलवानों को भी यश भारती सम्मान दिया है और 50 हजार रूपए पेंशन दी थी, भाजपा सरकार ने ये पेंशन बंद कर दी है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार पेंशन विरोधी है। दंगल का आयोजन चंद्रशेखर यादव, अमरीष पुष्कर विधायक तथा पूर्व सांसद सुशीला सरोज ने किया था, जिसमें सुनील सिंह साजन, राजेश यादव एमएलसी, अशोक यादव, विजयलक्ष्मी ब्लाक प्रमुख, राम स्वरूप यादव, विजय यादव, राम सागर यादव, राशिद अली, अमरपाल सिंह, लवकुश यादव, मेहताब आदि मौजूद थे।

हिन्दी या अंग्रेजी [भाषा बदलने के लिए प्रेस F12]