स्वतंत्र आवाज़
word map

'सैन्‍य औषधि क्षेत्र में भारत का शानदार काम'

भारतीय सशस्‍त्र बल की चिकित्‍सा सेवा शानदार-राष्ट्रपति

दिल्ली में हुई आईसीएमएम की 42वीं विश्व कांग्रेस

स्वतंत्र आवाज़ डॉट कॉम

Friday 24 November 2017 11:28:55 PM

president ramnath kovid

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविद ने अंतर्राष्ट्रीय सैन्य औषधि समिति यानी आईसीएमएम की 42वीं विश्व कांग्रेस के समापन समारोह को संबोधित करते हुए कहा है कि लगभग एक सदी से आईसीएमएम पूरी दुनिया में सैन्‍य औषधि के क्षेत्र में शानदार काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि अपने क्षेत्रीय और विश्‍व कांग्रेस के जरिए आईसीएमएम आदान-प्रदान और अर्थपूर्ण सीख के लिए एक वैश्विक मंच उपलब्‍ध कराता है। राष्‍ट्रपति ने कहा कि सैन्‍य सेवा भारत के लिए एक महत्‍वपूर्ण शक्ति स्‍तंभ है। उन्होंने कहा कि भारतीय सशस्‍त्र बल की चिकित्‍सा सेवा न केवल सशस्‍त्र सेनाओं को शानदार चिकित्‍सा सुविधा प्रदान करती है, बल्कि शांति और युद्धकाल में पूरे राष्‍ट्र की सेवा करती है।
राष्ट्रपति रामनाथ कोविद ने कहा कि सशस्‍त्र बल चिकित्‍सा सेवा रोकथाम, उपचार और पुर्नवास के कामों में लगा है तथा सेवारत सैनिकों और उनके परिजनों के साथ पूर्व सैनिकों को भी चिकित्‍सा सेवा प्रदान करता है। रामनाथ कोविद ने सम्‍मेलन के आयोजन के लिए आईसीएमएम और भारतीय सशस्‍त्र बल चिकित्‍सा सेवा को बधाई दी। राष्‍ट्रपति ने कहा कि वर्दीधारी चिकित्‍सा सेवा प्रदाता अत्‍यंत कठिन हालात में भी शानदार काम कर रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि यह प्रसन्‍नता की बात है कि सम्‍मेलन में आपातकालीन औषधि, पर्यावरण संबंधी औषधि, जीवनशैली से संबंधित रोगों, महामारी फैलने की स्थिति का मुकाबला करने संबंधी विषयों पर चर्चा की गई है। राष्‍ट्रपति ने कहा कि किसी भी देश का सैनिक उस देश का अत्‍यंत मूल्‍यवान और विशिष्‍ट नागरिक होता है, वह हर तरह के खतरे से देश को बचाने के लिए प्रतिबद्ध होता है, इसके लिए वह जान की बाजी लगाने से भी पीछे नहीं हटता।
रामनाथ कोविद ने कहा कि भारत में महिलाएं सशस्‍त्र बलों में शामिल होकर देश की सेवा कर रही हैं, मैं सशस्‍त्र बलों की बहादुर महिलाओं के हवाले से कहना चाहता हूं कि वर्दी में सुसज्जित महिलाएं हर तरह की भूमिका के लिए सशस्‍त्र बलों का महत्‍वपूर्ण अंग हैं। उन्होंने कहा कि अब अधिक से अधिक देश महिलाओं को बड़ी से बड़ी जिम्‍मे‍दारियां देने के लिए आगे आ रहे हैं। रामनाथ कोविद ने कहा कि महिलाएं भारतीय सशस्‍त्र बल चिकित्‍सा सेवा में मेडिकल, डेंटल और नर्सिंग अधिकारियों के तौरपर स्‍वतंत्रता के बाद से ही हिस्‍सा लेती रही हैं, उन्‍होंने अत्‍यंत कठिन परिस्थितियों में भी शानदार काम किया है। उन्होंने आईसीसीएम विश्‍व कांग्रेस को उसके भावी प्रयासों के लिए शुभकामनाएं देते हुए आश्‍वस्‍त किया कि भारत इस दिशा में अपना पूरा सहयोग और समर्थन देता रहेगा।

हिन्दी या अंग्रेजी [भाषा बदलने के लिए प्रेस F12]