स्वतंत्र आवाज़
word map

राष्‍ट्रीय परीक्षा एजेंसी लेगी अब प्रवेश परीक्षाएं

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने एनटीए की स्‍थापना को दे दी मंजूरी

फिलहाल सीबीएसई संचालित परीक्षाओं में संचालन

स्वतंत्र आवाज़ डॉट कॉम

Friday 10 November 2017 02:19:57 PM

pmo india

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्‍यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने उच्‍चतर शिक्षा संस्‍थाओं के लिए प्रवेश परीक्षाएं आयोजित करने के लिए सोसायटी अधिनियम 1860 के अंतर्गत सोसायटी के रूप में एक स्‍वायत्‍त और आत्‍मनिर्भर शीर्ष परीक्षा संगठन-राष्‍ट्रीय परीक्षा एजेंसी की स्‍थापना को मंजूरी प्रदान कर दी है। एनटीए आरंभ में उन प्रवेश परीक्षाओं को संचालित करेगी, जो इस समय सीबीएसई द्वारा संचालित की जा रही हैं, अन्‍य परीक्षाएं धीरे-धीरे तब शुरू की जाएंगी जब एनटीए पूर्णत: तैयार हो जाएगी। राष्‍ट्रीय परीक्षा एजेंसी वर्ष में कम से कम दो बार ऑनलाइन पद्धति में परीक्षाएं संचालित करेगी और इस प्रकार विद्यार्थी को उसके सर्वोत्‍कृष्‍ट प्रदर्शन के लिए पर्याप्‍त अवसर प्रदान करेगी।
एनटीए की अध्‍यक्षता एक प्रख्‍यात शिक्षाविद् करेंगे, जिनकी नियुक्ति मानव संसाधन विकास मंत्रालय करेगा। इसके सीईओ और महानिदेशक होंगे, जिनकी नियुक्‍ति भारत सरकार करेगी। इसका एक शासक मंडल होगा, जिसमें सदस्‍य प्रयोक्‍ता संस्‍थाओं में से होंगे। महानिदेशक की सहायता के लिए शिक्षाविदों, विशेषज्ञों की अगुवाई में 9 वर्टिकल होंगे। एनटीए को प्रथम वर्ष में भारत सरकार 25 करोड़ रुपए का एकबारगी अनुदान देगी, तत्‍पश्‍चात एनटीए अपने संचालन के लिए आत्‍मनिर्भर होगी। एनटीए की स्‍थापना से विभिन्‍न प्रवेश परीक्षाओं में भाग ले रहे लगभग 40 लाख छात्रों को लाभ होगा। इसकी स्‍थापना से सीबीएसई, एआईसीटीई तथा अन्‍य एजेंसियां इन प्रवेश पीरक्षाओं को आयोजित करने की जिम्‍मेदारी से मुक्‍त हो जाएंगी। एनटीए की स्‍थापना छात्राओं की योग्‍यता, बुद्धिमत्‍ता तथा समस्‍या निवारण क्षमता का आंकलन करने के लिए उच्‍च विश्‍वसनीयता एवं मानकीकृत कठिनाई को भी हल करेगी।
ग्रामीण छात्रों की आवश्‍यकताओं की पूर्ति के लिए यह उप जिला या जिला स्‍तर पर परीक्षा केंद्रों को स्‍थापित करेगी और जहां तक संभव हो सकेगा विद्यार्थियों को व्‍यावहारिक प्रशिक्षण देगी। जैसा कि विश्‍व के अधिकांश उन्‍नत देशों में होता है, भारत में इन प्रवेश परीक्षाओं को आयोजित करने के लिए कोई विशेषीकृत निकाय नहीं है, इस बात को ध्‍यान में रखकर केंद्रीय वित्‍तमंत्री अरुण जेटली ने वर्ष 2017-18 के अपने बजट भाषण में उच्‍च शैक्षिक संस्‍थाओं में दाखिले के लिए सभी प्रवेश परीक्षाओं को आयोजित करने हेतु एक स्‍वायत्‍त तथा आत्‍मनिर्भर शीर्ष परीक्षा संगठन के रूप में राष्‍ट्रीय परीक्षा एजेंसी यानी एनटीए की स्‍थापना की घोषणा की थी, जिसपर अमल कर दिया गया है।

हिन्दी या अंग्रेजी [भाषा बदलने के लिए प्रेस F12]