स्वतंत्र आवाज़
word map

'बेल्जियम के दिल में भारत के लिए खास स्‍थान'

राष्ट्रपति ने किया बेल्जियम के राजा और रानी का स्‍वागत

'भारत की विकास गाथा में बेल्जियम बनेगा भागीदार'

स्वतंत्र आवाज़ डॉट कॉम

Wednesday 8 November 2017 05:39:00 AM

the king and queen of belgium calling on the president ramnath kovid

नई दिल्ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविद ने राष्ट्रपति भवन नई दिल्ली में बेल्जियम के राजा फिलिप और रानी मैथिल्ड की आगवानी करते हुए उनके सम्मान में भोज का आयोजन किया। राष्‍ट्रपति ने इस अवसर पर भारत में बेल्जियम के राजा और रानी का स्‍वागत करते हुए कहा कि उन्‍हें यह जानकर प्रसन्‍नता हुई कि बेल्जियम और शाही परिवार के दिल में भारत के लिए विशेष स्‍थान है। उन्‍होंने कहा कि उनका यह दौरा इसलिए और अधिक महत्‍वपूर्ण है, क्योंकि भारत और बेल्जियम इस वर्ष अपने राजनयिक संबंधों की स्‍थापना का 70वां वर्ष मना रहा है। रामनाथ कोविद ने बेल्जियम के राजा फिलिप के साथ विचार-विमर्श करते हुए कहा कि भारत और बेल्जियम के प्रगाढ़ संबंध हैं, हमारे लोकतंत्र, कानून का शासन, अनेकता में एकता की स्थिति और मानवाधिकार के प्रति सम्‍मान के साझा मूल्‍य हमारे संबंधों को और प्रगाढ़ बनाते हैं।
राष्ट्रपति रामनाथ कोविद ने कहा कि प्रथम विश्‍व युद्ध भारत और बेल्जियम का साझा इतिहास है, जिसमें हजारों भारतीय सैनिकों ने बेल्जियम के लिए युद्ध किया और बलिदान दिया है, इन सैनिकों की वीरता और बलिदान को सम्‍मान देने के प्रयासों के लिए भारत, बेल्जियम सरकार की सराहना करता है। राष्‍ट्रपति ने कहा कि भारत और बेल्जियम के आर्थिक संबंध हमारे साझेदारी के लिए बहुत महत्‍वपूर्ण हैं, य‍द्यपि द्विपक्षीय व्‍यापार बढ़ रहा है, लेकिन हम मिलकर इसे और भी बढ़ा सकते हैं। रामनाथ कोविद ने कहा कि हमें यह देखना होगा कि हीरा उद्योग की सफलता को हम अन्‍य क्षेत्रों में कैसे दोहरा सकते हैं। राष्ट्रपति ने कहा कि भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था धीरे-धीरे प्रगति पर है, मेक इन इंडिया, स्‍वच्‍छ भारत, स्‍मार्ट सिटी और अन्‍य पहल बेल्जियम के निवेशकर्ताओं के लिए अच्‍छे अवसर प्रदान करते हैं। उन्होंने कहा कि बेल्जियम को बंदरगाह बनाने और उनके प्रबंधन में विशेषज्ञता प्राप्‍त है, भारत की अपने बंदरगाह क्षेत्र में सागरमाला परियोजना बनाने की महत्‍वकांक्षा है, इस संदर्भ में भारत बेल्जियम की कंपनियों को भागीदार बनाना चाहता है।
रामनाथ कोविद ने कहा कि विश्‍वयुद्ध के बाद बेल्जियम की अर्थव्‍यवस्‍था में महत्‍वपूर्ण सुधारों ने अंतरयूरोप व्‍यापार और कनेक्टिविटी में बेल्जियम को महत्वपूर्ण खिलाड़ी बना दिया है, यह तब से ही यूरोप की औद्योगिक उन्‍नति में अग्रणी बना हुआ है। उन्‍होंने कहा कि वर्तमान स्थिति में भारत विश्‍व के साथ अपने विकास में नई ऊर्जा प्रदान करने में लगा हुआ है और हम अपनी विकास गाथा में बेल्जियम की भागीदारी का स्‍वागत करते हैं। राष्‍ट्रपति ने कहा कि बेल्जियम यूरोप को सफल एकल बाज़ार बनाने में एकजुट करने की प्रक्रिया में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता रहा है, बेल्जियम की सरकार यूरोपीय संघ परियोजना के लिए प्रतिबद्ध रही है। उन्‍होंने कहा कि भारत भी बदलती दुनिया में स्थिरता के लिए यूरोपीय संघ को एक घटक के रूपमें देखता है और उसकी जनता को हर क्षेत्र में सफलता के लिए हार्दिक शुभकामनाएं देता है।

हिन्दी या अंग्रेजी [भाषा बदलने के लिए प्रेस F12]