स्वतंत्र आवाज़
word map

'यूएचएच हिंदू छात्रों को धर्मपूर्वक छूट दे'

भारतीय त्योहार भी उतने ही पवित्र हैं, जितना क्रिसमस

हिंदू नेता राजन जेड का यूएचएच के अध्यक्ष से अनुरोध

स्वतंत्र आवाज़ डॉट कॉम

Monday 6 November 2017 04:28:08 AM

uhh, hindu students religious discounts

नेवादा (यूएसए)। अमरीकी हिंदुओं ने जर्मनी के प्रतिष्ठित हैम्बर्ग विश्वविद्यालय से हिंदू छात्रों के लिए दीपावली दशहरा और अन्य हिंदू त्योहारों का धर्मपूर्वक पालन करने की छूट देने का आग्रह किया है। नेवादा (यूएसए) में हिंदू नेता राजन जेड ने एक वक्तव्य में कहा है कि हैम्बर्ग विश्वविद्यालय के सभी विद्यार्थियों की तरह हिंदू छात्रों की धार्मिक और आध्यात्मिक जरूरतों को पूरा करना भी जरूरी है। उन्होंने कहा कि सभी प्रमुख धर्मों के त्योहारों पर छुट्टियां आदि देकर उनका सम्मान किया जाना चाहिए और किसी को भी अपने धर्म के रीति-रिवाज़ों का पालन करने के लिए दंडित नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा‌ कि दीपावली और अन्य भारतीय त्योहार पर कक्षा में उपस्थिति से छूट प्रदान करके उनके विश्वास के प्रति सम्मान प्रकट करना चाहिए।
हिंदू नेता राजन जेड ने कहा कि यूएचएच में धार्मिक अभिव्यक्ति की आचार संहिता के अनुसार वह वैचारिक बहुलता के प्रति धर्मनिरपेक्ष और प्रतिबद्ध है, जहां सभी प्रकार के भेदभाव से बचा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि जो छात्र धार्मिक उत्सवों में भाग लेने के लिए कक्षा में भाग नहीं लेते हैं, वे इसका परिणाम भुगतते हैं, जबकि दूसरी ओर यूएएच 24 दिसंबर 2017 से 7 जनवरी 2018 और 20 मई 2018 से 27 मई 2018 तक पीएफिंगस्टेन ब्रेक को क्रिसमस ब्रेक प्रदान करता है। उन्होंने कहा कि यूएचएच को सभी धर्मों और गैर-धर्मों के समानता के साथ निष्पक्षता से व्यवहार करना सीखना चाहिए।
राजन जेड जोकि यूनिवर्सल सोसाइटी ऑफ हिंदुज्म के अध्यक्ष हैं, ने यूएचएच के अध्यक्ष प्रोफेसर डॉ डीटर लेनजन से आग्रह किया है कि वे हिंदू छात्रों को उनके पवित्र त्योहारों के दिन पर कक्षा से छूट देने पर गंभीरता से विचार करें, क्योंकि हिंदू धर्म त्योहारों से समृद्ध है और उनके धार्मिक उत्सव बहुत ही प्रिय और हिंदुओं के लिए बड़े ही पवित्र हैं। उन्होंने उदाहरण दिया कि जै‌से-दिवाली रोशनी का त्योहार है, अंधेरे को दूर करने और जीवन प्रकाश लाने और बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। उन्होंने कहा कि हिंदू धर्म के 1.1 अरब अनुयायी हैं और यह दुनिया का सबसे पुराना और तीसरा सबसे बड़ा धर्म है। ज्ञातव्य है कि यूएएचएच 1919 में स्थापित जर्मनी के उत्तर में अनुसंधान और शिक्षा का सबसे बड़ा संस्थान है, जो कथित तौर पर वैश्विक विश्वविद्यालयों के शीर्ष पर है और इसके तीन नोबेल पुरस्कार विजेता हैं। यह 43,000 छात्रों के लिए 174 शैक्षणिक कार्यक्रम प्रदान करता है।

हिन्दी या अंग्रेजी [भाषा बदलने के लिए प्रेस F12]