स्वतंत्र आवाज़
word map

सीबीईसी लोगो वाला ऐप ही डाउनलोड करें

उपयोगकर्ता जीएसटी दर हेतु ऐप पर क्विक सर्च करें

यह मोबाइल ऐप ऑफलाइन मोड में भी करेगा काम

स्वतंत्र आवाज़ डॉट कॉम

Thursday 13 July 2017 11:40:57 PM

cbec logo

नई दिल्ली। एंड्राइड प्‍लेटफॉर्म पर उपलब्‍ध ‘जीएसटी दर पता करने’ का सीबीईसी मोबाइल ऐप जल्‍द ही आईओएस प्‍लेटफॉर्म पर भी उपलब्‍ध होगा। इसके लिए एंड्राइड मोबाइल का इस्‍तेमाल करने वाले को गूगल प्‍ले स्‍टोर खोलकर सर्च विकल्‍प में ‘जीएसटी दर पता करना’ टाईप करना होगा, इसी नाम से कई और ऐप्‍स भी हो सकते हैं। उपयोगकर्ता को सीबीईसी के इस लोगो वाले ऐप को डाउनलोड करना होगा, इसके बाद इंस्‍टाल हो जाने पर मोबाइल की स्‍क्रीन पर यह आइकॉन आएगा, इसके बाद इस मोबाइल ऐप का उपयोग किया जा सकता है। ऐप की खासियत यह है कि इसे ऑफलाइन मोड में भी इस्‍तेमाल किया जा सकता है।
उपरोक्‍त लोगो वाले आइकॉन को क्लिक करने पर होम स्‍क्रीन नज़र आएगी, इस स्‍क्रीन पर सबसे महत्‍वपूर्ण विशेषता तुरंत खोज यानी क्विक सर्च है। उपयोगकर्ता वस्‍तु या सेवा का नाम अथवा अध्‍याय शीर्षक टाइप कर किसी भी वस्‍तु और सेवाकर की दर के लिए खोज कर सकता है। अगर उपयोगकर्ता को एचएसएन के अध्‍याय शीर्षक की जानकारी नहीं है तो वह वस्‍तु या सेवा का नाम टाइप कर सकता है। उदहारण के लिए अगर उपयोगकर्ता टैक्‍सी से संबंधित सेवाओं के बारे में जानना चाहता है तो उसे क्विक सर्च में टैक्‍सी टाइप करना होगा। इसमें उसे ‘टैक्‍सी’ नाम की वस्‍तु और सेवाओं की सूची उपलब्‍ध हो जाएगी। अब उपयोगकर्ता सूची को देखकर अपनी जरूरत की विशिष्‍ट श्रेणी पर क्लिक कर सकता है।
क्लिक करने के बाद एक विंडो उभरेगी इस विंडो में ‘जीएसटी दर’, ‘एचएसएन का अध्‍याय शीर्षक’ और सेवाओं के बारे में विस्‍तृत जानकारी होगी। इस पर भी अगर उपयोगकर्ता संतुष्‍ट नहीं है तो वह होम स्क्रीन पर सीबीईसी की वेबसाइट पर उपलब्‍ध लिंक पर क्लिक कर सकता है। इस लिंक पर सीबीईसी वेबसाइट का जीएसटी पेज खुलेगा, जिसमें विस्‍तृत जानकारी होगी। अगर उपयोगकर्ता को अध्‍याय शीर्षक या एचएसएन कोड नहीं पता है तो वह क्विक सर्च बॉक्‍स में एचएसएन कोर्ड टाइप कर सकता है, जिससे उपयोगकर्ता को तुरंत ही विशिष्‍ट विवरण मिल जाएगा। उदाहरण के लिए कोई भी व्‍यक्ति अपना होटल या रेस्‍टोरेंट अथवा जुते चप्‍पल के बिल की जीएसटी दर का मोबाइल ऐप के जरिए मिलान कर सकता है। इससे पारदर्शिता बढ़ेगी और राष्‍ट्र का प्रत्‍येक नागरिक वास्‍तव में सशक्‍त बनेगा।

हिन्दी या अंग्रेजी [भाषा बदलने के लिए प्रेस F12]