स्वतंत्र आवाज़
word map

'आपदा प्रबंधन में सोशल मीडिया जरूरी'

फेसबुक व एनडीएमए का आपदा मोचन सम्मेलन

आपदा प्रबंधन के नवीन तरीके खोजें-रिजिजू

स्वतंत्र आवाज़ डॉट कॉम

Friday 10 November 2017 01:21:25 AM

kiren rijiju addressing the india disaster response summit

नई दिल्ली। केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरेन रिजिजू ने कहा है कि भारत में पारंपरिक आपदा प्रबंधन का दृष्टिकोण बदलकर आपदा जोखिम प्रबंधन और आपदा जोखिम न्यूनीकरण की दिशा में कार्य करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि आपदा जोखिम प्रबंधन से निपटने के लिए आपदा कम करने के रणनीतिक क्षेत्रों को प्राथमिकता दी जानी चाहिए। किरेन रिजिजू दिल्ली में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण और फेसबुक के संयुक्त ‘भारत आपदा मोचन शिखर सम्मेलन’ के उद्घाटन पर बोल रहे थे, जिसमें आपदा और उसके बाद की स्थिति की तैयारी, मोचन और इससे बाहर निकलने में सोशल मीडिया के मंचों का कैसे अधिक लाभ उठाया जाए पर भी महत्वपूर्ण चर्चा हुई।
आपदा प्रबंधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दस सूत्री एजेंडा को कार्यांवित करने का इसे बढ़िया उदाहरण बताते हुए केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरेन रिजिजू ने कहा कि विश्‍व ऐसी साझेदारी की ओर बढ़ रहा है, जहां आपदा से निपटने में लोग सरकार के साथ सक्रिय भागीदारी कर रहे हैं, ये साझेदारी असाधारण और अपने आपमें अलग है। उन्‍होंने कहा कि यह अच्छा है कि आपदा मोचन क‌े विषयों की फेसबुक से साझेदारी की जा रही है। उन्होंने कहा कि प्रभावी आपदा प्रबंधन के लिए स्पष्ट रूपसे परिभाषित दिशा-निर्देशों की आवश्यकता है और आपदा की स्थिति तथा राहत और बचाव कार्यों में मीडिया की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। उन्होंने आपदा से संबंधित चुनौतियों के समाधान के लिए अन्य प्रौद्योगिकी कंपनियों को भी आमंत्रित किया। किरेन रिजिजू ने कहा कि सभी हितधारकों की प्राथमिक जिम्मेदारी लोगों और समुदायों तक पहुंचने की है और आपातस्थिति में लोगों को जागरूक करने तथा जानकारी देने के प्रयास किए जाने चाहिएं।
गृह राज्यमंत्री किरेन रिजिजू ने आपदा की स्थिति से बेहतर ढंग से निपटने के लिए आपदा प्रबंधन के नवीन तरीके खोजने, जानकारी साझा करने की नई तकनीकों के साथ समुदायों से आगे आने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि गैर सरकारी संगठनों, निजी संस्थानों और विभिन्न हितधारकों के सहयोग से आपातकालीन बचाव की दिशा में आवश्यक आधार तैयार होगा। किरेन रिजिजू ने कहा कि सोशल मीडिया सभी के जीवन को प्रभावित करता है और रोजमर्रा की जानकारी उपलब्ध कराने में सोशल मीडिया की भूमिका महत्वपूर्ण है, जिसका उचित दिशा में लाभ उठाने की आवश्यकता है। इस अवसर एनडीएमए के सदस्य आरके जैन ने कहा कि एनडीएमए जागरूकता बढ़ाने के लिए सक्रिय रूपसे सोशल मीडिया का उपयोग कर रहा है। उन्होंने आशा व्यक्त की कि इस भागीदारी से आपदा की स्थिति में मोबाइल तकनीक का इस्तेमाल करने के लिए नए अवसर खुलेंगे। कार्यक्रम में गृह मंत्रालय, एनडीएमए, राष्ट्रीय आपदा मोचन बल, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन संस्थान, केंद्र सरकार के विभागों के वरिष्ठ अधिकारी, फेसबुक और एनजीओ के प्रतिनिधि भी उपस्थित थे।

हिन्दी या अंग्रेजी [भाषा बदलने के लिए प्रेस F12]