स्वतंत्र आवाज़
word map

किसान भारतीय जीवन का केंद्र-राष्‍ट्रपति

पटना में बिहार कृषि रोड मैप का किया शुभारंभ

'किसान को ध्यान में रखते हुए नीति बनाएं'

स्वतंत्र आवाज़ डॉट कॉम

Thursday 9 November 2017 05:08:47 AM

president ramnath kovid

पटना। राष्‍ट्रपति रामनाथ कोविद ने आज पटना में सम्राट अशोक कंवेंशन सेंटर में बिहार कृषि रोड मैप 2017-2022 का शुभारंभ किया। राष्‍ट्रपति ने इस अवसर पर कहा कि देश के राष्‍ट्रपति के रूपमें पहली बार बिहार आना उनके लिए भावुक क्षण था। राष्ट्रपति रामनाथ कोविद ने कहा कि चंपारण सत्याग्रह का शताब्दी वर्ष अप्रैल 2017 से मनाया जा रहा है, इसलिए यह किसानों के हित में नए ‘कृषि रोड मैप’ के शुभारंभ का सही समय है। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने सत्याग्रह के माध्यम से इस बात पर बल दिया था कि किसान भारतीय जीवन और नीति निर्माण का केंद्र हैं और यह बात आज भी प्रासंगिक है। उन्होंने कहा कि वे बिहार के राज्यपाल के तौरपर अपने कार्यकाल के दौरान राज्य के सभी वर्गों और क्षेत्रों के लोगों से मिले सम्मान तथा स्नेह को हमेशा याद रखेंगे। उन्होंने अपनी यात्रा की शुरूआत भारत के पहले राष्ट्रपति रहे डॉ राजेंद्र प्रसाद को श्रद्धांजलि अर्पित कर की। रामनाथ कोविद की राष्ट्रपति के रूपमें यह पहली बिहार यात्रा है।
राष्ट्रपति रामनाथ कोविद ने कहा कि बिहार सरकार ने किसानों, कृषि वैज्ञानिकों और अन्य हितधारकों के साथ विचार-विमर्श कर 2008 में पहले ‘कृषि रोड मैप’ का शुभारंभ किया था। उन्होंने कहा कि वर्ष 2017 का यह रोड मैप तीसरा है, इसमें कृषि क्षेत्र के विकास के लिए व्यापक और समंवित योजनाएं हैं। राष्ट्रपति ने कहा कि सभी विभागों को निर्देश दिया गया है कि किसानों के कल्याण को ध्यान में रखते हुए वे अपनी नीतियां बनाएं। उन्होंने कहा कि यह आधारभूत परिवर्तन है। राष्ट्रपति ने विश्वास व्यक्त किया कि आज जारी किए गए तीसरे कृषि रोड मैप से बिहार में कृषि क्षेत्र का प्रदर्शन और बढ़ेगा तथा कृषक समुदाय सशक्त बनेगा।

हिन्दी या अंग्रेजी [भाषा बदलने के लिए प्रेस F12]