स्वतंत्र आवाज़
word map

'स्टार्टअप पूर्वोत्तर के युवाओं की नई मंजिल'

'घर में उद्यमिता कार्यक्रम समृद्धि का शानदार उत्तरदान'

पूर्वोत्तर क्षेत्र में बदलाव विषय पर बोले डॉ जितेंद्र सिंह

स्वतंत्र आवाज़ डॉट कॉम

Monday 16 October 2017 03:59:45 AM

dr. jitendra singh addressing the national convention

नई दिल्ली। केंद्रीय पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विकास मंत्रालय में स्वतंत्र प्रभार राज्यमंत्री, प्रधानमंत्री कार्यालय, कार्मिक, जन शिकायत, पेंशन, परमाणु ऊर्जा और अंतरिक्ष राज्‍यमंत्री डॉ जितेंद्र सिंह ने कहा है कि पूर्वोत्तर क्षेत्र पूरे देश के युवाओं के लिए स्टार्टअप की नई मंजिल के रूप में तेजी से उभर रहा है। डॉ जितेंद्र सिंह ने पूर्वोत्तर में बदलाव विषय पर दो दिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि दो वर्ष में संपर्क और परिवहन सुविधाओं में सुधार और प्रशासनिक स्तर पर ध्यान केंद्रित करने के कारण अधिक से अधिक युवा पूर्वोत्तर राज्यों में उद्यमशीलता के लिए जोखिम उठा रहे हैं और क्षेत्र की क्षमताओं का लाभ उठा रहे हैं। डॉ जितेंद्र सिंह ने एक उदाहरण देते हुए कहा कि अरूणाचल प्रदेश सहित पूर्वोत्तर के कुछ क्षेत्रों में पर्याप्त भंडारण और परिवहन सुविधा न होने के कारण 40 प्रतिशत फल नष्ट हो जाते हैं, जबकि इनका इस्तेमाल किफायती दरों पर ताजा और शुद्ध फलों का रस बनाने के लिए किया जा सकता है।
डॉ जितेंद्र सिंह ने युवाओं के साथ लगभग 1 घंटे के इस विचार-विमर्श के दौरान स्टार्टअप का ध्यान पर्यटकों को व्यस्त समय के दौरान रूकने की समस्या की ओर दिलाते हुए कहा कि उस दौरान सामान्य होटल भी महानगरों के 5 सितारा होटल के समान किराया वसूलते हैं, हालांकि गत दो से तीन वर्ष के दौरान घर से पर्यटन में बढ़ोतरी हुई है, कई युवा इस माध्यम से लाभ उठा रहे हैं। उन्होंने कहा कि सिक्किम के पकयोंग, अरूणाचल प्रदेश के ईटानगर और मेघालय के शिलांग में नए हवाईअड्डों के साथ बड़ी रेलवे लाइन की समयबद्ध योजना से व्यापार में सुविधा मिलेगी। उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर क्षेत्र में औषधि और स्वास्थ्य क्षेत्र भी उद्यमियों को नए अवसर प्रदान कर सकते हैं, वर्षों तक रोगियों को क्षेत्र से बाहर कोलकाता या वेल्लोर भेजने का दौर रहा है, लेकिन निजी कार्पोरेट क्षेत्र को मिले प्रोत्साहन से क्षेत्र में नए अस्पताल खुले हैं और युवा उद्यमी अवसरों का लाभ उठा रहे हैं।
पूर्वोत्तर विकास राज्यमंत्री ने पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विकास मंत्रालय के कुछ प्रमुख कार्पोरेट के साथ सार्वजनिक-निजी भागीदारी को प्रोत्साहन देने संबंधी कार्यक्रमों के बारे में जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पूर्वोत्तर राज्यों में परंपरागत रूप से महिलाएं अधिक सशक्त और रोज़गार स्तर पर अधिक सक्रिय रही हैं। डॉ जितेंद्र सिंह ने स्वयं सहायता समूहों के रूपमें घर में उद्यमिता के लिए प्रोत्साहन हेतु चलाए जा रहे कार्यक्रम पूर्वोत्तर की घर समृद्धि के लिए शानदार उत्तरदान है, इसमें युवा उद्यमी बढ़चढ़कर आगे आए हैं और उन्होंने हथकरघा और वस्त्र क्षेत्र में काम करने का निर्णय लिया है। वस्त्र मंत्रालय ने पूर्वोत्तर राज्यों की विशेष योजनाओं की शुरूआत की है। उन्होंने युवाओं से सरकार की पूर्वोत्तर औद्योगिक विकास नीति और अधिक बजट सहयोग का ज्यादा से ज्यादा लाभ उठाने का आह्वान किया। सम्मेलन को संसद सदस्य विनय सहस्त्रबुद्धे ने भी संबोधित किया।

हिन्दी या अंग्रेजी [भाषा बदलने के लिए प्रेस F12]