स्वतंत्र आवाज़
word map

एमकेयू कानपुर बनाएगी बुलेट प्रूफ जैकेट

डीआरडीओ का एमकेयू को प्रौद्योगिकी हस्तांतरण

लाइसेंस समझौते का हुआ आदान-प्रदान

स्वतंत्र आवाज़ डॉट कॉम

Thursday 5 October 2017 01:57:00 AM

neeraj gupta and s. christopher exchanging the documents

नई दिल्ली। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन यानी डीआरडीओ ने भारतीय सेना और अर्द्धसैनिक बलों के प्रयोग के लिए कानपुर की कंपनी एमकेयू लिमिटेड के साथ बुलेट प्रूफ जैकेट निर्माण के लिए प्रौद्योगिकी हस्तांतरण किया है। डीआरडीओ के अध्यक्ष और रक्षा अनुसंधान और विकास विभाग में सचिव एस क्रिस्टोफर ने नई दिल्ली में प्रौद्योगिकी हस्तांतरण किया। इस दौरान डीआरडीओ और मैसर्स एमकेयू के बीच दस्तावेज और संबंधित लाइसेंस समझौते का आदान-प्रदान किया गया।
बुलेट प्रूफ जैकेट निर्माण की प्रौद्योगिकी का विकास डीआरडीओ की कानपुर स्थित प्रयोगशाला रक्षा सामग्री और भंडार अनुसंधान और विकास संस्थान यानी डीएमएसआरडीआई ने किया है। कार्यक्रम में एस क्रिस्टोफर ने मैसर्स एमकेयू लिमिटेड से भारतीय सेना और अर्द्धसैनिकबलों के लिए बुलेट प्रूफ जैकेट निर्माण के लिए गुणवत्ता की कड़ी निगरानी रखने और डीआरडीओ की विकसित प्रौद्योगिकी को अपनाने के लिए आपसी सहयोग का अनुरोध किया। कार्यक्रम में डीआरडीओ के नौसेना प्रणाली और सामान कलस्टर के महानिदेशक डॉ एसवी कामत, डीएमएसआरडीई कानपुर के महानिदेशक डॉएन ईश्वर प्रसाद, एमकेयू लिमिटेड के प्रबंध निदेशक नीरज गुप्ता और डीआरडीओ मुख्यालय के विभिन्न कार्पोरेट निदेशक भी शामिल थे।

हिन्दी या अंग्रेजी [भाषा बदलने के लिए प्रेस F12]