स्वतंत्र आवाज़
word map

जीएसटी में बेहतरी की काफी गुंजाइश-जेटली

'देश का राजस्‍व संग्रह पहले की भांति होने की प्रतीक्षा करें'

फरीदाबाद में एनएसीआईएन का स्‍थापना दिवस मनाया

स्वतंत्र आवाज़ डॉट कॉम

Monday 2 October 2017 02:16:24 AM

arun jaitley at the nacin foundation day and passing out ceremony

फरीदाबाद। केंद्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट मामलों के मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि वस्‍तु एवं सेवा कर यानी जीएसटी में बेहतरी के लिए काफी गुंजाइश है और जब राजस्‍व संग्रह बढ़कर पहले की भांति हो जाएगा तो हम जीएसटी स्लैब कम करने के बारे में सोच सकते हैं। उन्होंने कहा कि सबसे पहले हमें जीएसटी से राजस्‍व संग्रह की स्थिति बेहतर करनी होगी यानी हमें ‘रेवेन्‍यू न्‍यूट्रल प्‍लस’ बनना होगा। वित्तमंत्री ने कहा कि यह सुनिश्चित करने के लिए हमें निश्चित रूप से बड़ी मौजूदगी दर्ज करनी होगी। उन्होंने कहा कि कर कानूनों के कार्यांवयन में कोई भी नियमविहीन क्षेत्र या स्थिति नहीं है। वित्तमंत्री ने कहा कि जो कर देय हैं, उनका भुगतान तो करना होगा और जो देय नहीं हैं, उनका भुगतान नहीं करना है। उन्होंने युवा अधिकारियों से कहा कि संशय की स्थिति में वे सीधा कदम उठाएं।
वित्तमंत्री अरुण जेटली हरियाणा के फरीदाबाद में एनएसीआईएन के स्‍थापना दिवस और आईआरएस यानी सी एंड सीई के 67वें बैच के पासिंग आउट समारोह में समापन भाषण दे रहे थे। ये युवा अधिकारी आजादी के बाद भारत में अब तक के सबसे बड़े कर सुधार अर्थात जीएसटी के समुचित कार्यांवयन की शीर्ष जिम्‍मेदारी संभालेंगे। वित्तमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि उन्हें अपने करियर की शुरुआत से ही सम्मान, आत्मसम्मान और ईमानदारी के साथ काम करने का मार्ग चुनने का विकल्प मिलेगा। उन्होंने कहा कि किसी भी अधिकारी के प्रदर्शन का आकलन करने के लिए समकक्ष व्यक्तियों का समूह सर्वोत्‍तम है। राष्ट्रीय सीमा शुल्क, अप्रत्यक्ष कर एवं नारकोटिक्स अकादमी यानी एनएसीआईएन ने पहली बार फरीदाबाद परिसर में 1 अक्टूबर को अपना स्‍थापना दिवस मनाया है। इसका शुभारंभ 1 अक्टूबर 1955 को एक प्रशिक्षण स्कूल के रूप में हुआ था। स्‍थापना दिवस समारोह की अध्यक्षता अरुण जेटली ने ही की।
एनएसीआईएन स्थापना दिवस के अवसर पर 2015 बैच के आईआरएस सी एंड सीई प्रोबेशनर्स के पासिंग आउट समारोह में वित्तमंत्री ने पासिंग आउट परेड का निरीक्षण भी किया और सलामी ली। सीबीईसी की अध्यक्ष वनाजा एन सरना ने एनएसीआईएन की ओर से अरुण जेटली का स्वागत किया। भारतीय राजस्व सेवा आईआरएस, सी और सीई के 2015 बैच में 32 महिला अधिकारियों सहित 147 अधिकारी प्रशिक्षु शामिल थे। यह बैच अपना प्रोफेशनल प्रशिक्षण पूरा करने के बाद इस अकादमी से पास आउट हो गया है। पासिंग आउट समारोह के दौरान वित्तमंत्री अरुण जेटली ने उन पांच अधिकारी प्रशिक्षुओं को असाधारण उपलब्धि के लिए पदक से सम्मानित किया, जिन्‍होंने प्रशिक्षण के दौरान विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। इस दौरान समग्र रूप से सर्वोत्‍तम अधिकारी प्रशिक्षु होने के मद्देनजर युवा अधिकारी डॉ फराह जकारिया को वित्तमंत्री के स्वर्ण पदक से सम्मानित किया गया।
वित्तमंत्री अरुण जेटली ने इस अवसर पर एनएसीआईएन की भव्य सचित्र पुस्तक यानी कॉफी टेबल बुक और वार्षिक पुस्तिका का विमोचन भी किया। कॉफी टेबल बुक में इस अकादमी के साथ-साथ भारतीय राजस्व सेवा के इतिहास का भी अवलोकन पेश किया गया है। वित्तमंत्री ने प्रशिक्षण और क्षमता निर्माण के क्षेत्र में उल्‍लेखनीय योगदान के लिए एनएसीआईएन के चार उत्कृष्ट संकाय का भी अभिनंदन किया। समारोह के दौरान वित्तमंत्री ने एनएसीआईएन के अंतर्राष्ट्रीय क्षमता निर्माण भागीदारों यथा डब्ल्यूसीओ, यूएनईपी, यूएनओडीसी, एडीबी और अन्य निकायों का भी अभिनंदन किया। अरुण जेटली ने जीएसटी की पहुंच और प्रशिक्षण में एनएसीआईएन के उल्‍लेखनीय योगदान पर लगाए एक स्टाल का उद्घाटन किया। मुख्य अतिथि और गणमान्य व्यक्तियों ने इस अकादमी के अतीत, वर्तमान और भविष्य को दर्शाने वाली एक प्रदर्शनी ‘एनएसीआईएन हेरिटेज वॉक’ का अवलोकन किया। कार्यक्रम में केंद्रीय उत्‍पाद एवं सीमा शुल्‍क बोर्ड के सभी वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित थे।

हिन्दी या अंग्रेजी [भाषा बदलने के लिए प्रेस F12]