स्वतंत्र आवाज़
word map

टेक्नोक्रेट्स का न्यू इंडिया में बड़ा योगदान

इंजीनियर्स दिवस पर नई दिल्ली में राष्ट्रीय संगोष्ठी

केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी का संबोधन

स्वतंत्र आवाज़ डॉट कॉम

Saturday 16 September 2017 01:36:52 AM

mukhtar abbas naqvi addressing at the national seminar

नई दिल्ली। केंद्रीय अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा है कि भारत सरकार गरीबों और कमजोर वर्गों के कल्याण के लिए नवीनतम प्रौद्योगिकी के माध्यम से न्यू इंडिया की अवधारणा को पूरा करने का प्रयास कर रही है। इंजीनियर्स दिवस पर नई दिल्ली में सिविल इंजीनियर्स संस्थान (भारत) के सामाजिक इंजीनियरिंग के माध्यम से अवसर बढ़ाना विषय पर आयोजित राष्ट्रीय संगोष्ठी को संबोधित करते हुए मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि प्रौद्योगिकी परिवर्तन का एक माध्यम है और भारतीय प्रौद्योगिकी और उसके टेक्नोक्रेट दुनिया के सर्वश्रेष्ठ विशेषज्ञों में से एक हैं। उन्होंने कहा कि रक्षा क्षेत्र, बुनियादी ढांचा, रेलवे, अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी, भारतीय इंजीनियरों और अन्य टेक्नोक्रेटों ने अपनी प्रतिभाओं के माध्यम से देश को गौरवांवित किया है। उन्होंने कहा कि राष्ट्र निर्माण में इंजीनियर महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं, वे अपनी रचनात्मक सोच और समर्पण तथा कड़ी मेहनत के जरिए देश को एक नई दिशा भी दे रहे हैं।
अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री ने कहा कि सरकार ने टेक्नोक्रेट्स और अन्य पेशेवरों के लिए जीवंत और सकारात्मक वातावरण तैयार किया है। उन्होंने कहा कि केंद्र विभिन्न प्रौद्योगिकी का उपयोग तेजी से कर रहा है ताकि लोगों के जीवन को और अधिक आरामदायक बनाया जा सके, प्रौद्योगिकी के माध्यम से हमने शासन और आम लोगों के बीच अंतर को भर दिया है। मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि सरकार आम आदमी के कल्याण के लिए मजबूत और पारदर्शी प्रणाली सुनिश्चित करने के लिए प्रौद्योगिकी का उपयोग कर रही है। उन्होंने कहा कि भारत डिजिटल अर्थव्यवस्था बनने की ओर बढ़ रहा है, आम लोगों के कल्याण का पैसा डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर यानी डीबीटी के माध्यम से सीधे उनके बैंक खातों में जा रहा है, करोड़ों छात्रों की छात्रवृत्ति की राशि डीबीटी के माध्यम से सीधे उनके बैंक खातों में जा रही है। मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि केंद्र ने टेक्नोक्रेट्स और अन्य पेशेवरों के लिए बेहतर वातावरण सुनिश्चित किया है, इसी‌लिए वे भारत वापस आ रहे हैं और न्यू इंडिया के दर्शन में योगदान दे रहे हैं।

हिन्दी या अंग्रेजी [भाषा बदलने के लिए प्रेस F12]