स्वतंत्र आवाज़
word map

भुवनेश्वर में भाजपा की ताकत की हुंकार

देश के हर नागरिक का सपना हो न्यू इंडिया-मोदी

'जनधन वनधन और जलधन संरक्षित करें'

स्वतंत्र आवाज़ डॉट कॉम

Monday 17 April 2017 05:36:24 AM

pm narendra modi in bjp national executive meeting at bhubaneswar

भुवनेश्वर (ओडिशा)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भगवान जगन्नाथ की पावन धरती पर भुवनेश्वर के जनता मैदान में राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक के समापन सत्र को संबोधित करते हुए भाजपा कार्यकर्ताओं का देश एवं समाज के विकास के लिए कृतसंकल्पित होने का आह्वान किया। उन्होंने भुवनेश्वर में इतने कम समय में राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक के सफल आयोजन के लिए भारतीय जनता पार्टी की ओडिशा इकाई की पूरी टीम को ह्रदय से धन्यवाद व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि ओडिशा में भाजपा मजबूत हुई है, इसमें गुणात्मक परिवर्तन आया है और वह दिन दूर नहीं जब भाजपा की ओडिशा इकाई देशभर में भाजपा की राज्य इकाइयों की प्रेरणा का केंद्र बनेगी।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि न्यू इंडिया के विजन को चरितार्थ करने वाली राजनीतिक दृष्टि और उसे परिपूर्ण करने के लिए तीन वर्ष में लगातार हर क्षेत्र में भाजपा कार्यकर्ताओं ने अथक परिश्रम किया है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी अपने कृतित्व के द्वारा हर कसौटी पर खरी उतरी है। उन्होंने कहा कि जब हम कहते हैं ‘सबका साथ, सबका विकास’ तो इसका मतलब यह है कि हमारे हर कार्य के अंदर, हमारी हर नीति के मूलमंत्र में यह निहित है और हमारे हर निर्णयों में यह परिलक्षित भी होता है। नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमारे लिए सत्ता साध्य नहीं, साधन है, जिसके माध्यम से हमें देश को विकास की एक नई ऊंचाई पर प्रतिष्ठित करना है, हमारे लिए राजनीति जनता की सेवा का एक मंच है। उन्होंने कहा कि जय और पराजय हमारे जनसेवा और देश सेवा के मिशन को कभी चुनौती पेश नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि हम वे लोग हैं, जो जय-पराजय को आत्मसात कर उसे खाद के रूप में उपयोग कर और अधिक निखरकर उभरे हैं और आगे बढ़े हैं।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश के कोटि-कोटि जन हमें सिर्फ विजयी ही देखना नहीं चाहते, बल्कि वे हमसे अपनापन भी महसूस करते हैं, ऐसे में हमारी जिम्मेदारी बनती है कि हमारा हर कार्य उनकी भलाई के लिए ही केंद्रित हो। उन्होंने कहा कि आज ऐसा कोई मुद्दा नहीं बचा है, जिस पर विरोधी दल हमारे संगठन अथवा सरकार को कठघरे में खड़ा कर सके। उन्होंने कहा कि लोगों को इस बात का भरोसा है कि हम गलत नहीं कर रहे हैं और न ही गलत इरादे से कोई काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जनता का विश्वास हमारी पूंजी है, जनता का विकास हमारा मकसद है, ग़रीब कल्याण ही हमारे जीवन का ध्येय है। उन्होंने कहा कि हम इस मूलमंत्र पर जितना ध्यान केंद्रित करेंगे, परिणाम उतने ही अच्छे आएंगे। नरेंद्र मोदी ने कहा कि संगठन ने काफी अच्छी कार्ययोजना बनाई है और देश के हर कोने में भाजपा का विस्तार हुआ है। उन्होंने कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने परिश्रम की पराकाष्ठा की है, अगर हम उनकी बनाई गई कार्य योजनाओं पर अमल करें तो हर बूथ पर कमल खिलेगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि आज विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं बचा है, इसलिए नए नए इश्यूज क्रियेट किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जिस मुद्दे से हमारा दूर-दूर तक कोई लेना-देना नहीं होता, उस मुद्दे को भी हमसे जोड़कर विवाद खड़े करने की कोशिश की जा रही है।
नरेंद्र मोदी ने कहा कि पहले दिल्ली विधानसभा चुनाव के दौरान चर्चों पर हमले का विवाद खड़ा किया गया, लेकिन जब जांच हुई और सच्चाई सामने आई तो विरोधियों की पोल खुल गई, फिर चुनावों में लाभ के लिए अकारण अवार्ड वापसी का ड्रामा किया गया, पता नहीं अब वे अवार्ड वापसी वाले कहां चले गए और अब ईवीएम का नया इश्यू मैनूफैक्चर किया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि सच्चाई सबको मालूम है, लेकिन फिर भी देश में झूंठ चलाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि गर्मागर्म और सनसनी वाली चीजों से टीवी और मीडिया में तो जगह मिल सकती है, लेकिन वे देश की जनता के दिल में जगह कभी नहीं बना सकते। उन्होंने कहा कि हम सत्यनिष्ठा से देश के गांव, ग़रीब, दलित, पिछड़े, शोषित, वंचित, युवा एवं महिलाओं की भलाई के लिए काम कर रहे हैं और उनके जीवन-स्तर को ऊपर उठाने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हम ग़रीब कल्याण की योजनाओं को विकास की दौड़ में पिछड़ गए समाज के अंतिम छोर पर खड़े व्यक्ति तक पहुंचाने में सफल हुए हैं। उन्होंने कहा कि यह हमारा दायित्व बनता है और यह हमारा संस्कार भी है कि समाज का कोई वर्ग हमसे अलग महसूस नहीं करे। उन्होंने कहा कि विकास के साथ-साथ सुशासन बहुत जरूरी है, डेवलपमेंट प्लस गुड गवर्नेंस हमारा सिद्धांत होना चाहिए। उन्होंने कहा कि गुड गवर्नेंस का मेरा मंत्र है, जिसका मतलब है-'प्रो-ऐक्टिव गुड गवर्नेंस' यानी सक्रिय सुशासन।
नरेंद्र मोदी ने कहा कि 2022 में जब देश आजादी की 75वीं वर्षगांठ मना रहा होगा, तब क्या हम 125 करोड़ लोगों को देश के लिए, देश के विकास के लिए एक साथ कर्तव्य पथ पर अग्रसर कर सकते हैं, इस तरह का प्रयास किया जाना चाहिए, अभी इसके लिए हमारे पास पांच वर्ष का समय है। उन्होंने कहा कि आजादी के 75वें वर्षगांठ को हम एक लक्ष्य के रूप में सामने रखकर देश के लिए कुछ कर गुजरने का संकल्प लें, हर हिंदुस्तानी इसे अपने कर्तव्य-पथ का उत्सव समझे, इस तरह का माहौल पूरे देश में बनाए और इस बात का संकल्प ले कि देश में एक भी व्यक्ति ग़रीब न रहे। नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमें तीन विषयों पर प्रमुख रूपसे ध्यान देने की आवश्यकता है-जनधन, वनधन और जलधन, इन तीनों धन को सिंचित और संरक्षित करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि न्यू इंडिया कंसेप्ट की सोच को नई पीढ़ी तक ले जाने के लिए हमें अभी से जुट जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि आज देश का अमीर तबका भी यह मानता है कि डिमोनेटाईजेशन से ईमानदारी के साथ जीने का अवसर प्राप्त हुआ है। उन्होंने कहा कि हमारा हर काम ईमानदारी का होना चाहिए, ईमानदारी से होना चाहिए और ईमानदारों को पुरस्कृत करने का होना चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि हम दीया जलाते हैं तो अंधेरा अपने आप ही छंटेगा। उन्होंने कहा कि न्यू इंडिया का कंसेप्ट यही है कि एक ऐसे देश का निर्माण जहां परिश्रम की पूजा हो, ईमानदारी की पूजा हो, समाज में ऊंच-नीच का भाव न हो, योजनाओं में छोटे से छोटे व्यक्ति का हिस्सा हो, टेक्नोलॉजी से एम्पावर्ड हो, सबका साथ हो-सबका विकास हो। उन्होंने कहा कि देश के हर नागरिक का सपना न्यू इंडिया होना चाहिए।

हिन्दी या अंग्रेजी [भाषा बदलने के लिए प्रेस F12]