स्वतंत्र आवाज़
word map

यूनानी चिकित्सा को बढ़ावा मिले-उस्मान

छात्र-छात्राएं यूनानी व आयुर्वेदिक चिकित्सा अपनाएं

तिब्बया कालेज में छात्र-छात्राओं का कार्यक्रम

स्वतंत्र आवाज़ डॉट कॉम

Thursday 6 April 2017 06:23:00 AM

state information commissioner hafiz osman in tibbya college program

लखनऊ। डॉ अब्दुल अली तिब्बया कालेज मलिहाबाद लखनऊ के छात्र-छात्राओं के कार्यक्रम में राज्य सूचना आयुक्त हाफिज उस्मान मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए और कहा कि आज यूनानी और आयुर्वेदिक पद्धति का हम सबको ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करना चाहिए। उन्होंने कहा कि यूनानी और आयुर्वेदिक पद्धति से जटिल बीमारियों का इलाज सम्भव है, इन्हें इस्तेमाल करके हम अनेक साईडइफेक्ट से बच सकते हैं। हाफिज उस्मान ने कहा कि हमें पुरानी यूनानी और आयुर्वेदिक पद्धति तथा योग पर ज्यादा जोर देना चाहिए।
डॉ अब्दुल अली तिब्बया कालेज के कार्यक्रम में हाफिज उस्मान ने कहा कि प्रदेश में यूनानी और आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश में कई जगहों पर यूनानी और आयुर्वेदिक मेडिकल कालेज खुलने चाहिएं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के ब्लॉक स्तर पर ज्यादा से ज्यादा मेडिकल स्टोर खोले जाएं, जिससे जरूरतमंदों को इसका लाभ मिल सके और यूनानी एवं आयुर्वेदिक पद्धति से रोगों का बेहतर ढंग से इलाज हो सके। उन्होंने कहा कि छात्र-छात्राओं को यूनानी और आयुर्वेदिक मेडिसिन पद्धति से पढ़ाना चाहिए, ताकि प्रदेश में इसका ज्यादा से ज्यादा विकास हो और इसके डॉक्टर भी ज्यादा संख्या में शिक्षित हो सकें।
गौरतलब है कि राज्य में अभी केवल दो ही सरकारी यूनानी मेडिकल कालेज हैं, जिनमें एक लखनऊ में तो दूसरा इलाहाबाद में है। लखनऊ में कुल 80 सीटों पर पढ़ाई हो रही है, जबकि प्रदेश में कुल 254 यूनानी डिस्पेंसरियां हैं। सरकार से मांग की गई है कि ब्लॉक स्तर पर डिस्पेंसरियां खोली जाएं, जिसके बाद इनकी संख्या 851 हो जाएगी। यह भी सुझाव दिया गया है कि लखनऊ में यूनानी दवाएं बनाने के लिए आयुर्वेद के साथ-साथ यूनानी की भी अलग यूनिट होनी चाहिए। मौजूदा समय में उत्तर प्रदेश में करीब 13 हजार यूनानी चिकित्सक हैं और नए संस्थान खुलने से इनकी संख्या भी बढ़ेगी। हाफिज उस्मान ने आयुष मंत्रालय से अनुरोध किया कि यूनानी पद्धति को और ज्यादा बढ़ावा दिया जाए।
तिब्बया कालेज के डायरेक्टर फकरे आलम हसन ने मुख्य अतिथि का भव्य स्वागत किया। मुख्य अतिथि को कालेज के लैब और हास्पिटल का निरीक्षण कराया गया, जिसे देखने के बाद मुख्य अतिथि ने कालेज प्रबंधन के इंतजामात की प्रशंसा की। कालेज के सेक्रेटरी मौलाना युसुफ नदवी ने मुख्य अतिथि का धन्यवाद दिया। कार्यक्रम की अध्यक्षता मौलाना कमाल अख्तर ने की, जो जामिया कटोली महिलाहाबाद के प्रबंधक हैं। कार्यक्रम में भारी संख्या में छात्र-छात्राएं उपस्थित थीं। कालेज के अध्यापक डॉ सिराज, डॉ रिज़वान, डॉ ओसाफ, इस्ताम्बुल विश्वविद्यालय टर्की के मोहम्मद युनुस, मुहिद्दीन, फहाद उस्मान, शादात उस्मान, सक्षम सक्सेना, दीपक कुमार, राजकिशोर और गणमान्य नागरिक‌ मौजूद थे।

हिन्दी या अंग्रेजी [भाषा बदलने के लिए प्रेस F12]