स्वतंत्र आवाज़
word map

भारत ने हासिल किया शत्रु मिसाइल का तोड़

पृथ्‍वी रक्षा वाहन इंटरसेप्टर मिसाइल का सफल परीक्षण

भारत विश्व के चार क्षमतावान देशों में शामिल हुआ

स्वतंत्र आवाज़ डॉट कॉम

Monday 13 February 2017 03:03:22 AM

prithvi interceptor missile defense vehicles

नई दिल्ली। राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पृथ्‍वी रक्षा वाहन इंटरसेप्टर मिसाइल के सफल परीक्षण के लिए डीआरडीओ को बधाई दी है। रक्षा अनुसंधान एवं विकास विभाग के सचिव एवं डीआरडीओ के अध्‍यक्ष डॉ एस क्रिस्‍टोफर को भेजे एक संदेश में राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा है कि मैं पृथ्‍वी रक्षा वाहन इंटरसेप्टर मिसाइल के सफल परीक्षण से जुड़े सभी लोगों को हार्दिक बधाई देता हूं। उन्होंने कहा कि भारत अब उन कुछ चुने हुए राष्‍ट्रों के समूह में शामिल हो गया है, जिनके पास ऐसी बैलि‍स्टिक मिसाइल रक्षा प्रणाली है। उन्होंने कहा कि राष्‍ट्र डीआरडीओ की इस उपलब्धि पर गर्व करता है, यह भारत की प्रतिरक्षा क्षमताओं को बढ़ावा देने में एक उल्‍लेखनीय मील का पत्‍थर है तथा आने वाले बैलिस्टिक मिसाइल खतरों के मुकाबले बढ़ी हुई सुरक्षा प्रदान करेगा।
राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने वैज्ञानिकों, इंजीनियरों, तकनीकी विदों की टीम के सदस्‍यों तथा मिशन से जुड़े अन्‍य सभी लोगों को बधाई एवं शुभकामनाएं संप्रेषित कीं और कहा कि मैं आने वाले वर्षों में डीआरडीओ की सतत सफलता की कामना करता हूं। गौरतलब है कि भारत में बैलेस्टिक मिसाइल का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया है, जिसमें एक आने वाली बैलेस्टिक मिसाइल टारगेट को एक एक्‍सो-वायुमंडलीय इंटरसेप्‍टर मिसाइल से बंगाल की खाड़ी में इंटरसेप्‍ट किया गया। इस सराहनीय वैज्ञानिक उपलब्धि के साथ भारत ने आने वाले बैलेस्टिक मिसाइल खतरों के खिलाफ संवर्द्धित सुरक्षा की दिशा में अपनी समग्र क्षमता के निर्माण में एक महत्‍वपूर्ण मील का पत्‍थर पार कर लिया है। भारत उन चार देशों के विशिष्‍ट क्‍लब में शामिल हो गया है, जो विद्वेषपूर्ण खतरे से अपने आसमान एवं नगरों को सुरक्षित करने के लिए क्षमताएं विकसित कर चुके हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर ने भी डीआरडीओ एवं इस उल्‍लेखनीय उपलब्धि को हासिल करने में जुटे सभी वैज्ञानिकों की उनके समर्पित प्रयासों के लिए सराहना की।

हिन्दी या अंग्रेजी [भाषा बदलने के लिए प्रेस F12]