स्वतंत्र आवाज़
word map

'अभिरंग' ने किए सामाजिक जड़ता पर प्रहार

हिंदू कालेज दिल्ली में हुआ नाटकों का प्रशंसनीय मंचन

कालेज पार्लियामेंट का वार्षिक समारोह 'मुशायरा'

चंचल सचान

Saturday 11 February 2017 02:21:27 AM

hindu college delhi mein hua naatakon ka prashansaneey manchan

नई दिल्ली। हिंदू कालेज की हिंदी नाट्य संस्था 'अभिरंग' ने कालेज पार्लियामेंट के वार्षिक समारोह 'मुशायरा' के अंतर्गत दो नाटकों का मंचन किया। हिंदू कालेज के दर्शकों और श्रोताओं से खचाखच भरे प्रेक्षागृह में भारत विभाजन के प्रसंग में सआदत हसन मंटो की प्रसिद्ध कहानी 'खोल दो' तथा शिवराम के चर्चित नाटक 'जनता पागल हो गई है' का मंचन हुआ, जिन्हें खूब सराहना मिली। गौरतलब है कि हिंदी नाट्य संस्था 'अभिरंग' अपने ऐसे कार्यक्रमों के लिए बहुत विख्यात है और इसके रंगकर्मी नाट्य विषय पर गहरी छाप छोड़ते हैं।
राजसत्ता और पूंजीवादी लालची ताकतों के जन विरोधी गठजोड़ के खिलाफ लिखे गए नाटक 'जनता पागल हो गई है' में शर्मा ने नेता, आशुतोष ने पागल, पीयूष ने जनता, पूजा ने पूंजीपति, स्नेहदीप ने इंस्पेक्टर की शानदार भूमिका निभाई। दीपक, राहुल, दीपिका भी सहायक भूमिकाओं में खूब जंचे। इस नाटक का निर्देशन शिवराम की नाटक मंडली के सदस्य रहे युवा रंगकर्मी आशीष मोदीने किया। दूसरे मंचन में अमर कथाकार मंटो की कहानी 'खोल दो' के मंचन में युवा अभिनेताओं नेसांप्रदायिक और संकुचित मानसिकता के मध्य एक निरीह स्त्री के शोषण को सुंदरता से दर्शाया।इसमें ऊषा ने सकीना, कुलदीप ने सिराजुद्दीन और ज्योति, पीयूष, प्रशांत, कृष्णदेव, प्रिया, आशुतोष, पूजा सहित अन्य विद्यार्थियों ने भूमिकाएं निभाईं। दोनों नाटकों में गहरे अंधकार और ध्वनि के प्रयोगों को दर्शकों से भरपूर सराहना मिली। आशुतोष ने पागल की भूमिका में खूब तालियां बंटोरी।
अभिरंग के परामर्शदाता डॉ पल्लव ने इस अवसर पर संस्‍था की गतिविधियों की जानकारी देते हुए कहा कि एक दशक से अधिक समय से अभिरंग हिंदी रंगमंच के क्षेत्र में सक्रिय है। उन्होंने कहा कि सामाजिक जड़ता के विरुद्ध हिंदी रंगमंच की बड़ी भूमिका है, जिसमें नई पीढ़ी भी अपना योगदान कर रही है। आयोजन में हिंदी विभाग के डॉ रामेश्वर राय, डॉ अभय रंजन, डॉ रचना सिंह, स्टाफ एसोसिएशन के अध्यक्ष सचिन वशिष्ठ, बड़ी संख्या में अध्यापक और विद्यार्थी उपस्थित थे। 'खोल दो' के निर्देशन सहयोगी युवा रंगकर्मी कपिल कुमार ने अपनी नाट्य संस्था 'रंगरेज' और उसकी आगामी योजनाओं की जानकारी दी।

हिन्दी या अंग्रेजी [भाषा बदलने के लिए प्रेस F12]